नाईपर में 15 फरवरी 2019 को स्थापना दिवस मनाया

0
55

Buzzing Chandigarh Feb,15:(Amit) राष्ट्रीय औषधीय शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान(नाईपर) राष्ट्रीय महत्व का संस्थान है जो कि रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय, औषध विभाग, भारत सरकार के अधीन संसद के अधिनियम (नाईपर अधिनियम 1998) द्वारा बनाया गया है। संस्थान औषधीय विज्ञान, प्रौद्योगिकी और प्रबंधन के क्षेत्र में मास्टर्स और डॉक्टरेट के पाठ्यक्रम भी आयोजित करता है। आज 15 फरवरी 2019, शुक्रवार को नाईपर के संयोजन केंद्र में स्थापना दिवस समारोह मनाया, जिसमें बीते कल 14.02.2019 को पुलवामा आईईडी विस्फोट में मारे गए सीआरपीएफ कर्मियों के सम्मान में 2 मिनट का मौन रखा गया। श्री अजीत सिंह, ए.सी.जी. वर्ल्डवाइड के अध्यक्ष एवं संस्थापक, (पूर्व में एसोसिएटेड कैप्सूल ग्रुप) मुंबई समारोह के मुख्य अतिथि थे। डॉ. अनिल कॉल, निदेशक, सीएसआईआर सुक्ष्मजीव प्रौदयोगिकी संस्थान (सीएसआईआर इमटेक), चंडीगढ़ समारोह के सम्माननीय अतिथि थे । कार्यक्रम की शुरुआत प्रो. रघुराम राव अक्किनेपल्ली, निदेशक, नाईपर द्वारा स्वागत भाषण के साथ हुई, जिसके बाद उन्होंने शिक्षा, अनुसंधान, प्लेसमेंट, पेटेंट, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और पुरस्कार आदि के क्षेत्र में विभिन्न उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। सम्माननीय अतिथि डॉ. अनिल कौल ने ग्लोबल पब्लिक हेल्थ स्पेस में इनोवेशनपर व्याख्यान दिया । उन्होंने छात्रों को सफलता की महत्वपूर्ण सलाह दी कि इन दिनों चीजें इतनी तेजी से आगे बढ़ रही हैं कि किसी के विचारों का पालन करने की बजाय जब तक आप अपने खुद के नए विचारों को प्रस्तुत नहीं करते हैं, तब तक आप अपने नवाचारों में कभी भी सफल नहीं होंगे। मुख्य अतिथि श्री अजीत ने फार्मास्युटिकल इंडस्ट्री एंड साइंस की समीक्षा विषय पर स्थापना दिवस व्याख्यान दिया। उनके व्याख्यान में भारतीय फार्मास्युटिकल उद्योग और विज्ञान की समीक्षा की गई, जिसमें इसकी ताकत और कमजोरियों और विदेशों में उद्योग के साथ कुछ तुलनाएं सम्मिलित थी।  उन्होंने चीन की उभरती स्थिति के बारे में भी अवगत करवाया, जो विश्व जेनेरिक बाजार में भारत की पूर्व-प्रतिष्ठित स्थिति के लिए खतरा हो सकता है। समारोह का समापन प्रो. राहुल जैन, डीन, नाईपर द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव के साथ हुआ। स्थापना दिवस समारोह में शोधकर्ताओं, वैज्ञानिकों, शिक्षकों, कर्मचारियों और संस्थान के छात्रों ने भाग लिया। समारोह के दौरान विभिन्न संस्थानों के लगभग 400 छात्र, संकाय, कर्मचारी और आमंत्रित अतिथि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here