जिस कमल के फूल को महिलाएं लेकर आई थी वही अब उसे गिराएंगी: नैना चौटाला

0
594
डबवाली, : डबवाली की विधायिका नैना सिंह चौटाला ने स्वास्थ्य, शिक्षा और पानी सहित अनेक मुद्दों को विधानसभा में जोरदार ढंग से उठाते हुए प्रदेश सरकार से जवाबतलबी की। विधायिका ने कहा कि महिलाओं की समस्याओं को एकबार फिर से प्रभावशाली ढंग से उठाया। इनेलो विधायिका ने कहा कि डबवाली हलका व प्रदेश में डिलीवरी के मामलों में लापरवाही बरती जा रही है जिस कारण हालात इतने बदत्तर हो चुके हैं कि अस्पताल के बाहर ही महिलाओं की डिलीवरी हो रही है। इसी प्रकार आधार कार्ड न होने पर भी महिलाओं को अस्पताल में जगह तक नहीं दी गई व डिलीवरी की सेवाएं नहीं दी गई। उन्होंने बताया कि अस्पतालों में इलाज के लिए आने वाली महिलाएं सुरक्षित नहीं है। 17 नवम्बर 2017 को कुरूक्षेत्र में अस्पताल के आउटडोर में महिला के साथ रेप की घटना सामने आ चुकी है। उन्होंने डबवाली में मैडिकल कालेज या उच्चस्तरीय सुविधाओं से युक्त अस्पताल बनाने की मांग की जिसके लिए शेरगढ में 40 एकड़ जमीन भी है।
इनेलो विधायिका ने शिक्षा का विषय उठाते हुए कहा कि डबवाली में शिक्षा का कोई बड़ा शिक्षण संस्थान नहीं है। सरकार को चाहिए कि डबवाली में महिला कालेज व लड़कियों के लिए और स्कूल खोले जाएं जिससे कि बेटियों को शिक्षा हासिल करने में दिक्कत न आए। उन्होंने बताया कि गांवों में जलघरों की डिग्गियां गाद से भरी पड़ी है, जिसकी तुरंत प्रभाव से सफाई करवाए जाने की जरूरत है ताकि आने वाली गर्मियों के मौसम में लोगों को पीने का साफ पानी मिल सके। बिजली के मुद्दे उन्होंने कहा कि सरकार जगमग योजना के तहत 24 घंटें बिजली देने का दावा तो करती है पर सबसे कम बिजली डबवाली हलका को मिल रही है। नैना चौटाला ने सरकार से गांव चोरमार में स्थित ऐतिहासिक श्री गुरूद्वारा साहिब के मुख्य गेट के आगे नए बने फारलाइन नेशनल हाईवे पर कट न होने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि अभी गुरूद्वारा साहिब आने वाले श्रद्धालुओं को काफी दूर घूमकर आना पड़ता है इसलिए गुरूद्वारा साहिब के सामने कट बनाने की मांग की ताकि इसका लाभ हो सके।
विधायक नैना चौटाला ने चौटाला अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधाएं न होने व चिकित्सक न होने का मामला उठाते हुए कहा कि वे पिछले साढे 3 साल से इस बारे सरकार से आवाज लगाकर सरकार को जगाने का काम कर रही है लेकिन भाजपा सरकार इस ओर ध्यान ही नहीं दे रही है। उन्होंने जबाब देते हुए कहा कि चौटाला गांव में अस्पताल जननायक चौ. देवीलाल ने स्थापित किया था जिसे बाद में चौटाला साहब ने आगे बढाया व सुविधाएं दी। लेकिन उसके बाद पहले कांग्रेस ने 10 साल व बाद में भाजपा की सरकार ने साढे 3 साल से इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि अस्पताल में कम से कम महिला चिकित्सक को नियुक्त किए जाए। हालात है कि गांव की महिलाओं को इलाज के लिए दूर दूर तक जाना पड़ रहा है।
विधायिका ने चौटाला-चंडीगढ बस सेवा का मुद्दा फिर से जोरदार ढंग से उठाते हुए परिवहन मंत्री को जमकर घेरा। विधायक नैना चौटाला ने कहा कि वह पिछले साढे 3 साल से मांग कर रही है कि चौटाला गांव से चंडीगढ के लिए बस सेवा फिर से शुरू की जाए लेकिन भाजपा सरकार उनकी सुनवाई नहीं कर रही है जबकि इस बस में बहुत यात्री प्रदेश की राजधानी जाते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here