गैस्ट टीचर्स एसोसिएशन ने अपने खून से लिखकर रैगुलर करने की संजय टंडन को सौंपा ज्ञापन पत्र

0
42

चंडीगढ़ Nov,26 : गेस्ट टीचर्स ने अपने खून से लिख कर मांग की कि कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को पक्का करने के लिए एम.सी व चंडीगढ प्रशासन भेदभाव कर रहा है। चंडीगढ प्रशासन कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को पक्का करने की कोई नीति नहीं बना रहा है और न ही पंजाब की 18.3.11 की पालिसी को अपना रहा है बल्कि प्रशासन व एम.सी  पंजाब की 2011 की कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को पक्का करने की इस पालिसी को सांसद, गवर्नर व केंद्र से छुपा भी रहा है।

इससे पहले पर्सोनेल सेक्रेटरी ने भी कच्चे कर्मचारियों के लिए पंजाब की पालिसी अपनाने के संदर्भ में जवाब देते हुए सांसद को लिखा था कि पंजाब की 2016 का एक्ट अभी कोर्ट में विवादित है व जैसे ही इसमें कोई संशोधन होगा तो चंडीगढ प्रशासन से अपना लेगा व उस समय भी 2011 की पालिसी का जिक्र नहीं किया गया।

प्रशासन व एम.सी पंजाब की विवादित पालिसी 2016 का जिक्र जरूर कर रहा है पर कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों के लिए अविवादित पालिसी 18.3.2011 पर कोई टिप्पणी नहीं कर रहा है। चंडीगढ प्रशासन ने पंजाब की डेली वेजर्स की पालिसी 17.11.11 को लागू कर उमा देवी बनाम स्टेट आफ कर्नाटक के आधार पर वन टाइम मईयजर के आधार पर 2014-15 में पालिसी बना कर लागू कर दिया था पर कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों को इससे वंचित कयों रखा जा रहा है।इसी मांग को लेकर यह एसोसिएशन संजय टंडन से मिली और प्रशासन व एम.सी के भेदभाव के बारे में बताया।संजय टंडन ने एसोसिएशन को चंडीगढ प्रशासन, गवर्नर व केंद्र में यह मामला उठाने का आश्वासन दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here