गैंगस्टर को शरण देने वाला सबसे चहेता साथी सन्नी भी गिरफ्तार

गिरफ्तारी से एक दिन पहले 'संजू देखने एलांते गया था दिलप्रीत

0
363
Buzzing Chandigarh July 13: चंडीगढ़।( दिग्विजय मिश्रा) गैंगस्टर दिलप्रीत बाबा इतना बेखौफ था कि एक महीने पहले परमीश वर्मा को गोली मारने के मामले में सुर्खियों में आने के बावजूद गिरफ्तार होने से एक दिन पहले चंडीगढ़ के एलांते मॉल में अपने कुछ साथियों के साथ ‘संजू  फिल्म देखने गया था। बाबा ने आराम से फिल्म देखी और वहां से चला गया, लेकिन पुलिस को कानोंकान खबर तक नहीं लगी।
उधर, पंजाब पुलिस की स्पेशल ऑपरेशन सेल की टीम ने गैंगस्टर दिलप्रीत सिंह के एक और करीबी अरुण कुमार उर्फ सन्नी को नंगल से गिरफ्तार किया है। आरोपी नंगल का ही रहने वाला है और कंस्ट्रक्शन का काम करता है। गिरफ्तारी के बाद उसका सिविल अस्पताल फेज-6 मोहाली में मेडिकल भी करवाया गया। सन्नी को मोहाली अदालत में पेश किया जाना है। दूसरी तरफ गैंगस्टर दिलप्रीत उर्फ बाबा भी शुक्रवार को पीजीआई चंडीगढ़ से डिस्चार्ज हो गया जिसे चंडीगढ़ पुलिस ने कोर्ट में पेश किया जहां से उसे दो दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। हालांकि पुलिस की तरफ से ज्यादा रिमांड की मांग की जा रही थी, लेकिन अदालत ने दिलप्रीत के शारिरिक तौर पर फिट न होने का हवाला देते हुए २ दिन का ही रिमांड मंजूर किया। सूत्रों की मानें तो बाबा से अब सेक्टर-३६ थाना पुलिस पूछताछ करेगी जिसमें कई मामलों का खुलासा होने की उम्मीद है।
ध्यान रहे कि सिंगर परमीश पर गोली चलाने वाले गैंगस्टर दिलप्रीत बाबा को सोमवार को क्राइम ब्रांच व पंजाब पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन के तहत सेक्टर-43 से गिरफ्तार किया था।
प्रेमिका के बाद सबसे चहेता है सन्नी
बता दें कि इससे पहले दिलप्रीत को पनाह देने वाली उसकी दोनों प्रेमिकाएं रुपिंदर कौर और हरप्रीत कौर भी गिरफ्तार की जा चुकी हैं। लेकिन, बाबा का अगर प्रेमिकाओं के बाद कोई सबसे भरोसेमंद है तो वह सन्नी ही है। सूत्रों से पता चला है कि अपनी प्रेमिका के पास से जब वह जाता था तो सन्नी के पास ही जाकर रुकता था। पुलिस का कहना है कि सन्नी ने दिलप्रीत को कई बार वारदात कर जाने के बाद रहने के लिए शरण दी। इसके अलावा सन्नी पर दिलप्रीत के साथ नशा तस्करी में सहयोग करने का भी आरोप है।
नशे की ओवरडोज के चलते पीजीआई में भी रहा दाखिल
प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ दिन पहले दिलप्रीत ने नशीले पदार्थों का अधिक सेवन कर लिया था जिसके चलते उसके साथ लिव इन में रहने वाली रुपिंदर उसे पहले मैक्स हॉस्पिटल मोहाली और फिर पीजीआई लेकर गई गई। इस बारे में भी पुलिस को भनक तक नहीं लगी थी। दोनों ही जगह दिलप्रीत का असली नाम नहीं बताया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here