आर्ट इन कंटेपरेरी सोसाइटी विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार व प्रदर्शनी का आयोजन

0
110

Buzzing Chandigarh April,22:(Jay) चितकारा यूनिवर्सिटी में 18 से 21 अप्रैल तक चार दिनों तक चले नेशनल लेबल के आर्ट फेस्टिवल में कलाकारों ने अपनी प्रतिभा का शानदार प्रदर्शन किया। इस दौरान पेटिंग वर्कशाप, आर्ट इन कंटेपरेरी सोसाइटी विषय पर नेशनल सेमिनार, छात्रों के साथ विचार विमर्श व जाने माने कलाकारों द्वारा जीवंत प्रदर्शन का शानदार आयोजन किया गया। इस दौरान आर्ट वक्र्स की एक शानदार प्रदर्शनी का भी आयोजन किया गया।  इस आर्ट फेस्टिवल ने कलाकारों को ऐसा मंच प्रदान किया जब वे एक दूसरे के विचारों और अनुभवों को साझा कर सके।इस आयोजन की सबसे खास बात देश के जाने माने 16 कलाकारों की मौजूदगी रही जिनमें पदम विभूषण से सम्मानित जतिन दास,(दिल्ली) अमित दत्त, नई दिल्ली,  बसंत कुमार भार्गव भोपाल, चंद्रशेखर काले उज्जैन,  हिम चटर्जी शिमला,  कमलेश के गांधी जम्मू, किशोर राय दिल्ली, मनीष रंजन जेना भुवनेश्वर,  मीनाकेतन पटनायक भुवनेश्वर,  प्रिय रंजन बेहरा,बंगलूरू  रंजन कुमार मलिक,चितकारा यूनिवर्सिटी  रेणु सांगवान नई दिल्ली रुपक कुमार गंदेज हैदराबाद,  संजय विश्वाल नई दिल्ली  सुदर्शन पाल सिंह चितकारा यूनिवर्सिटी , व विनीत भारद्वाज हरियाणा आदि खास थे।  एक्रिलिक आर्ट वर्क में रंगों का समायोजन देखने योग्य था। मानवीय संवेदनाओं को दर्शाती पेटिंग्स सबसे ज्यादा आकर्षक रही और उन्होंने शहर के रंगों को केनवास पर खूबसूरती से उतारा

पदम विभूषण अवार्डी जतिन दास ने अपनी लाइव पेटिंग वर्कशाप के जरिए  लोगों को ऐसा मौका दिया जो कि दूर्लभ था। अपनी कला की यात्रा के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा है कि आर्ट की हर चीज लयमय होना चाहिए।  नई दिल्ली की आर्टिस्ट रेणु सांगवान ने अपने कला को ज्यादातर माइथोलाजी कैरेक्टर पर फोकस किया । लाल, पीले व नारंगी रगों के जरिए उन्होंने अपनी रचना को नया आयाम दिया। मां दुर्गा के रूप में उन्होंने शानदार लाल रंग के जरिए प्रस्तुत किया। सांगवान न्े ऐसी महिला के बारे में बताया जो कि जमीन से जुडी हुई थी।  दिल्ली से आए  आर्टिस्ट किशोर राय ने राधा व कृष्ण  का खूबसूरती से चित्रण किया।  उन्होंने अपने कैनवास पर जातक कथाओं के बारे में भी विस्तार से चित्रित किया।  एनीमेशन, डिजाइन, फाइन आट्र्स विजुअल आर्टस व फोटोग्राफी के छात्रों ने चितराम 2019  के समापन के मौके पर बहुत कुछ सीखा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here